लड़के को यहां भेजो: नंगे पैर 11 सेकेंड में 100 मीटर दौड़ा युवक, खेल मंत्री ने कहा-

SHARE WITH LOVE
  • 54
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    54
    Shares

11 सेकेंड में 100 मीटर. ऐसा तो दुनिया के सिर्फ चुनिंदा धावक ही कर पाते हैं. 10 सेकेंड में 100 मीटर की रेस पूरी करने की बात होती है तो सबसे पहला नाम आता है उसेन बोल्ट का. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. दावा किया जा रहा है कि वीडियो में दिख रहे 19 साल के लड़के ने 11 सेकेंड में 100 मीटर की रेस पूरी की. किसी ने वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर डाल दिया. फिर क्या था. वीडियो वायरल हो गया.

वीडियो में दिख रहा लड़का कौन है

मध्य प्रदेश में एक जिला है शिवपुरी. वीडियो में दिख रहे रामेश्वर गुर्जर इसी जिले के रहने वाले हैं. उन्होंने 10वीं तक पढ़ाई की है. परिवार में माता-पिता के अलावा 5 भाई-बहन हैं. परिवार खेती करता है. परिवार की स्थिति ठीक नहीं थी तो रामेश्वर ने 10वीं के बाद पढ़ाई नहीं की.
वीडियो वायरल होने के बाद रामेश्वर की चर्चा राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी तक पहुंची. उन्होंने मीडिया को बताया,

जैसे ही मुझे पता चला मैंने 20 मिनट में रामेश्वर से संपर्क किया. मैंने उनसे कहा कि आप में प्रतिभा है. हमारा धर्म है कि हम आपकी मदद करें. मध्य प्रदेश सरकार, खासकर मुख्यमंत्री आपकी मदद करना चाहते हैं. उन्होंने हमारे पास आने की बात कही है. धावक में अगर प्रतिभा है तो हमारा धर्म बनता है कि हम उनकी मदद करें.

रामेश्वर के वीडियो को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, लिखा-

भारत को प्रतिभाशाली व्यक्तियों का आशीर्वाद प्राप्त है. सही अवसर और सही मंच मिलने पर वे इतिहास बनाने के लिए आगे आ सकते हैं. मैं भारत के खेल मंत्री किरण रिजिजू से अपील करता हूं कि इस अभिलाषी एथलीट को उनकी प्रतिभा निखारने में मदद दें.

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ट्वीट का केंद्रीय खेल मंत्री रिजिजू ने जवाब दिया. लिखा- 

शिवराज सिंह जी किसी को कहिए कि रामेश्वर को मेरे पास लेकर आए. मैं उन्हें एथलेटिक एकेडमी में रखने के लिए पूरा इंतजाम करूंगा.

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू से रामेश्वर की मदद की अपील पर राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने प्रतिक्रिया दी. कहा कि अगर उन्होंने केंद्रीय खेल मंत्री को इस बारे में बताया तो कोई गलत नहीं है, लेकिन सबसे पहले दायित्व मध्य प्रदेश के खेल मंत्री का है. मुख्यमंत्री का है. सरकार से हटने के बाद हो सकता है कि शिवराज की प्रायॉरिटी बदल गई हो. जो भी हो लेकिन रामेश्वर की सहायता होनी चाहिए.

हम भी तो वही कह रहे हैं, रामेश्वर की प्रतिभा को निखारा जाना चाहिए. यह कोई मायने नहीं रखता कि ये काम राज्य सरकार करती है या केंद्र सरकार. खिलाड़ी आगे बढ़ेंगे तो देश का नाम रोशन करेंगे. ये अच्छी बात है कि रामेश्वर का वीडियो सामने आने के बाद राज्य और केंद्र सरकार दोनों ही उसकी मदद के लिए आगे आई हैं.


SHARE WITH LOVE
  • 54
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    54
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.