चंद्रशेखर आज़ाद पर फिर भड़कीं मायावती, कहा जबरन चला जाता है जेल

SHARE WITH LOVE
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares

मायावती ने आरोप लगाया है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए चंद्रशेखर आज़ाद ने जामा मस्जिद पर प्रदर्शन किया था.

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने एक बार फिर भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद की नीयत पर सवाल उठाए हैं. मायावती ने आज एक के बाद एक ट्वीट कर अपने समर्थकों से उनसे सचेत रहने की हिदायत दी. मायावती ने ट्वीटर पर लिखा, “दलितों का आम मानना है कि भीम आर्मी का चन्द्रशेखर, विरोधी पार्टियों के हाथों खेलकर खासकर बीएसपी के मज़बूत राज्यों में षडयंत्र के तहत चुनाव के करीब वहां पार्टी के वोटों को प्रभावित करने वाले मुद्दे पर, प्रदर्शन आदि करके फिर जबरन जेल चला जाता है.”


मायावती यही नहीं रुकीं. उन्होंने आगे लिखा, “यह यूपी का रहने वाला है, लेकिन CAA/NRC पर यह यूपी की बजाए दिल्ली के जामा मस्जिद वाले प्रदर्शन में शामिल होकर जबरन अपनी गिरफ्तारी करवाता है क्योंकि यहां जल्दी ही विधानसभा चुनाव होने वाला है.”


मायावती ने तीखा आरोप लगाते हुए कहा है कि चंद्रशेखऱ ‘जबरन’ गिरफ़्तार हुए हैं. उन्होंने आगे लिखा, “अतः पार्टी के लोगों से अपील है कि वे ऐसे सभी स्वार्थी तत्वों, संगठनों व पार्टियों से हमेशा सचेत रहें. वैसे ऐसे तत्वों को पार्टी कभी लेती नहीं है, चाहे वे कितना प्रयास क्यों ना कर ले?”


हालांकि ट्वीटर पर मायावती के बयान की तीखी आलोचना हो रही हैं. यूजर्स सवाल उठा रहे हैं कि वो ख़ुद क्यों नहीं सड़कों पर उतर रहीं? एक यूजर ने लिखा है, “साहेब कांशी राम की बोये हुए पौधे को बर्बाद कर दिया! जिसे सड़क पर होना चाहिए था उसे AC रूम में बैठना पसंद है अब!!” किसी ने मायावती के आरोपों के जवाब में लिखा, “चाहे वह कुछ भी कर रहा है लेकिन भाजपा का एजेंट नहीं है.”


बता दें, नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के दौरान आगजनी और तोड़फोड़ के आरोप में पुलिस ने शनिवार को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद को गिरफ्तार कर लिया. इसके अलावा शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा में शामिल होने के लिए बीस अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस ने सीलमपुर में हिंसा के लिए पांच और दिल्ली गेट के पास पुरानी दिल्ली से 16 लोगों को गिरफ्तार किया है. भीम आर्मी का विरोध शुक्रवार की नमाज के बाद दोपहर एक बजे के बाद शुरू हुआ था. जामा मस्जिद में चल रहे विरोध प्रदर्शन में आजाद ने भी हिस्सा लिया था. हालांकि जब पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेने की कोशिश की, तो वह अपने समर्थकों के बीच ओझल हो गए. इसके बाद उनका और पुलिस का आपस में लुका-छिपी का खेल चलता रहा. अब पुलिस ने आखिरकार आजाद को गिरफ्तार कर लिया है.

Source:


SHARE WITH LOVE
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares