BJP को एक मौका दे बंगाल, खत्म होगी बेरोजगारी और हिंसा: अमित शाह

SHARE WITH LOVE
  • 108
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    108
    Shares

केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी नेता अमित शाह ने 9 जून को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘पश्चिम बंगाल जन संवाद रैली’ को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, ”ममता दी आप हमारा हिसाब मांगती हो, मैं तो हिसाब लेकर आया हूं, लेकिन आप भी कल प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अपनी सरकार का हिसाब दीजिए और कहीं बम धमाकों या बंद हुई फैक्टरियों का नंबर मत बता दीजिएगा. बीजेपी के मार दिए गए कार्यकर्ताओं की संख्या मत बता दीजिएगा.”

शाह ने कहा, ‘’ममता जी, क्या बंगाल के गरीब लोगों को मुफ्त और अच्छी वाली चिकित्सा सहायता प्राप्त करने का कोई अधिकार नहीं है? आयुष्मान भारत योजना को यहां अनुमति क्यों नहीं है? ममता जी, गरीबों के अधिकारों पर राजनीति करना बंद करें. आप कई अन्य मुद्दों पर राजनीति कर सकती हैं.’’ 

इसके आगे उन्होंने कहा, ”देशभर ने आयुष्मान भारत योजना को स्वीकार लिया. अंत में (अरविंद) केजरीवाल जी ने भी आयुष्मान भारत योजना को स्वीकार कर लिया, लेकिन आप क्यों नहीं स्वीकार रही हो ये बंगाल की जनता आपसे पूछना चाहती है.”

शाह ने कहा, ”जिस बंगाल में रविन्द्र संगीत की धुन सुनाई देती थी, वो बंगाल आज बम धमाकों से दहल रहा है. गोलियों की आवाज, हत्याओं और लोगों की चीखों से सुन्न रह गया है. कौमी दंगों से इसकी आत्मा को बहुत बड़ी क्षति पहुंची है.”

2019 के लोकसभा चुनाव का जिक्र करते हुए शाह ने कहा, ‘’मैं बंगाल की जनता को ये कहना चाहता हूं कि भले ही बीजेपी को 303 सीटें देशभर से मिली हैं, लेकिन मेरे जैसे कार्यकर्ता के लिए सबसे महत्वपूर्ण है बंगाल की 18 सीटों पर मिली विजय.’’

  • मैं करोड़ों बंगालवासियों से कहना चाहता हूं कि आपने कम्युनिस्ट और तृणमूल दोनों को आजमाया है. एक मौका बीजेपी को दीजिए, हमारी पांच साल की सरकार के बाद बंगाल में भ्रष्टाचार, टोलबाजी, घुसपैठ, परिवारवाद, बेरोजगारी, आतंक और हिंसा समाप्त हो जाएगी.
  • मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि बीजेपी सिर्फ आंदोलन करने के लिए बंगाल के मैदान में नहीं आई है, बीजेपी सिर्फ राजनीतिक दल के विस्तार लिए नहीं आई है, बीजेपी बंगाल के अंदर हमारी संगठन नींव को मज़बूत तो करना चाहती ही है लेकिन बीजेपी फिर से बंगाल को संस्कारिक बंगाल बनाना चाहती है.
  • 2014 से पश्चिम बंगाल में 100 से ज्यादा बीजेपी कार्यकर्ताओं ने यहां राजनीतिक लड़ाई में अपनी जान गंवा दी. मैं उनके परिवारों को सम्मान देता हूं क्योंकि उन्होंने सोनार बांग्ला के विकास में योगदान दिया है.

बता दें कि पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा का चुनाव होना है. इस चुनाव से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नौ साल के शासन के खिलाफ पिछले हफ्ते नौ सूत्री आरोपपत्र जारी कर चुकी बीजेपी ने हाल ही में सोशल मीडिया पर ‘आर नोई ममता’ (ममता का शासन अब और नहीं) अभियान चलाया है.

source


SHARE WITH LOVE
  • 108
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    108
    Shares