अमित शाह बोले, ‘बहुत प्रयास किए गए कि सुभाष बाबू को भुला दिया जाए लेकिन कोई कितना भी..’

SHARE WITH LOVE
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares

अमित शाह ने कहा, इतने वर्ष बाद भी देश की जनता ‘नेताजी’ को सम्‍मान के साथ याद करती है

खास बातें

  • कहा, स्‍वाधीनता सेनानियों के जीवन और संघर्ष से प्रेरणा लें युवा
  • सुभाष बाबू को जनता इतने साल बाद भी सम्‍मान से याद करती है
  • अमित शाह ने प्रदर्शनी ‘‘बिप्लबी बांग्ला’’ का भी उद्घाटन किया

कोलकाता :

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhas Chandra Bose) को भुला दिए जाने के बहुत प्रयास किए गए लेकिन उनकी देशभक्ति और शहादत भावी पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी. बंगाल के क्रांतिकारियों के सम्मान में यहां स्थित नेशनल लाइब्रेरी में आयोजित ‘‘शौर्यांजलि” कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने युवाओं से स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन और संघर्ष से प्रेरणा लेने का आह्वान किया. उन्होंने कहा, ‘‘बहुत प्रयास किए गए कि सुभाष बाबू को भुला दिया जाए, परन्तु कोई कितना भी प्रयास करे, उनका कर्तव्य, देशभक्ति और उनका सर्वोच्च बलिदान पीढ़ियों तक भारत वासियों के जहन में जस का तस रहने वाला है.”

यह भी पढ़ें

उन्होंने कहा कि सुभाष बाबू को देश की जनता इतने वर्ष के बाद भी उतने ही प्यार और सम्मान से याद करती है जितना उनके जीवित रहने और संघर्ष के दौरान करती थी.एक उत्कृष्ट छात्र के रूप में सुभाष चंद्र बोस के जीवन और उनके ICS की परीक्षा पास करने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इस स्वतंत्रता सेनानी ने नौकरी छोड़ दी और स्वाधीनता के आंदोलन में कूद गए ताकि यह संदेश जाए कि अंग्रेजी हुकूमत के अधीन आरामदेह जीवन जीने के मुकाबले देश उनके लिए महत्वपूर्ण है.शाह ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता था कि वह दो बार कांग्रेस के अध्यक्ष बने और एक बार तो उन्होंने महात्मा गांधी के उम्मीदवार तक को हराया.

अमित शाह ने देश के युवाओं से आग्रह किया कि वह सुभाष चंद्र बोस के जीवन और उनके संघर्षें के बारे में पढ़ें.उन्होंने कहा, ‘‘जो युवा पीढ़ी अपने इतिहास को जानती है, वही एक मजबूत राष्ट्र का निर्माण कर सकती है.”शाह ने इस अवसर पर खुदीराम बोस और रास बिहारी बोस जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन पर आधारित एक प्रदर्शनी ‘‘बिप्लबी बांग्ला” का भी उद्घाटन किया और एक साइकिल रैली को रवाना किया. नेताजी, खुदीराम बोस और रास बिहारी बोस के नाम पर बनी तीन टीमें स्वतंत्रता सेनानियों के संदेशों को पुहंचाने के लिए 900 किलोमीटर की साइकिल यात्रा करेगी.

देश प्रदेश : अमित शाह के आरोप, ममता बनर्जी का जवाब

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link


SHARE WITH LOVE
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares