कोविशील्ड और कोवैक्सीन टीके की 16 करोड़ डोज के लिए 2520 करोड़ रुपये का केंद्र ने दिया एडवांस 

SHARE WITH LOVE
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

Covishield Vaccine

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार ने कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield and Covaxin vaccine) की 11 करोड़ अतिरिक्त डोज खरीदने के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 1700 करोड़ रुपये का अग्रिम भुगतान (Advance Payments) किया है. जबकि कोवैक्सीन की 5 करोड़ खुराक के लिए 787.50 करोड़ रुपये का एडवांस दिया गया है. कुल मिलाकर यह राशि 2520 करोड़ रुपये होती है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने ये जानकारी दी है. कोविशील्ड टीके की ये 11 करोड़ खुराक मई, जून और जुलाई के दौरान सीरम इंस्टिट्यूट से मिलेंगी. इसके लिए 28 अप्रैल को 1732.50 करोड़ रुपये का यानी कुल खर्च का 100 प्रतिशत एडवांस के तौर पर सीरम को जारी किया गया.

केंद्र ने कहा कि टीडीएस कटने के बाद यह राशि 1699.50 करोड़ रुपये हुई जो सीरम को 28 अप्रैल को ही मिल गई. केंद्र सरकार ने कहा कि  कोविशील्ड टीके की 10 करोड़ खुराकों के लिए पिछले ऑर्डर के क्रम में 8.744 करोड़ खुराक तीन मई तक प्राप्त हो चुकी हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मीडिया की उन खबरों को गलत और बेबुनियाद बताया है, जिनमें कहा गया है कि केंद्र ने कोरोना रोधी टीकों के लिए कोई नया ऑर्डर नहीं दिया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि इसके अतिरिक्त, मई, जून और जुलाई के दौरान कोवैक्सीन टीके की पांच करोड़ खुराकों के लिए भारत बायोटेक इंडिया को 28 अप्रैल को 787.50 करोड़ रुपये (टीडीएस कटने के बाद 772.50 करोड़ रुपये) का 100 प्रतिशत एडवांस जारी किया गया. यह रकम टीका निर्माता कंपनी को उसी दिन मिल गई. कोवैक्सीन टीके की दो करोड़ खुराकों के पिछले ऑर्डर के क्रम में तीन मई तक 88 लाख से ज्यादा खुराक प्राप्त हो चुकी है. यह कहना गलत है कि केंद्र सरकार ने कोई नया आर्डर नहीं दिया है.

दो मई तक केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को टीके की 16.54 करोड़ खुराक और नि:शुल्क प्रदान की हैं. राज्यों के पास अब भी 78 लाख से अधिक खुराक मौजूद हैं.राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों को अगले तीन दिन में 56 लाख से अधिक खुराक और मिलेंगी. राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण रणनीति और उदार मूल्य नीति के तहत केंद्र सरकार हर महीने 50 प्रतिशत टीके खरीदना और पहले की तरह इन्हें राज्य सरकारों को पूरी तरह नि:शुल्क उपलब्ध कराना जारी रखेगी.

Source link


SHARE WITH LOVE
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share