सबसे महंगी दवा को मंजूरी, एक खुराक की कीमत 15 करोड़ रुपए

SHARE WITH LOVE
  • 11
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares

नवजात शिशुओं में होने वाली रेयर बीमारी spinal muscular atrophy को ठीक करने में आएगी काम. इस बीमारी में बच्चों के बचने की संभावना बहुत कम होती है.

चौंकिए मत! दुनिया में एक ऐसी दवा बनी है जिसकी एक खुराक करोड़ों रुपए में मिलेगी. जीन थैरेपी में काम आने वाली ये दवा स्विटजरलैंड की एक कंपनी ने बनाई है. शुक्रवार को अमरीका की फूड एंड ड्रग एजेंसी ने इसे मंजूरी दी है.


कीमत

इस दवा को स्विटजरलैंड की Novartis ने बनाया है. इसकी एक खुराक की कीमत 21 लाख डॉलर है. यानी भारत में अगर कोई इसे खरीदे तो उसे 14 करोड़ 56 लाख 87 हजार 500 रुपए देने पड़ेंगे. एक खुराक की कीमत करोड़ों रुपए रखने के लिए कंपनी को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि कंपनी ने इस कीमत का बचाव किया है. कंपनी ने रॉयटर्स को बताया कि ये दवा जिस बीमारी को ठीक करेगी, अभी एक साल में उस बीमारी के इलाज पर पांच लाख डॉलर खर्च करने पड़ते हैं. यानी भारत में 3 करोड़ 46 लाख 87 हजार 500 रुपए खर्च करने पड़ेंगे.

किस बीमारी में आएगी काम


नवजात बच्चों में एक बीमारी होती है जिसका नाम है spinal muscular atrophy. यह एक प्रकार की विकलांगता है जिसमें मौत होने की सबसे ज्यादा आशंका है. अगर बच्चे जीवित भी रह जाते हैं तो माता-पिता को घर में वर्चुअल आईसूयी बनवाना पड़ता है. इस बीमारी से पीड़ित कई बच्चे अपना दूसरा जन्मदिन भी नहीं मना पाते हैं. कंपनी 2015 से इस दवा का परीक्षण कर रही थी. दवा का नाम Zolgensma है.

कितनी असरदार

कंपनी का दावा है कि पहले ट्रायल में ही दवा के चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं. बीमारी के चलते जो बच्चे घूम-फिर नहीं पाते हैं, खाना नहीं खा पाते हैं या अपना सिर नहीं घूमा पाते हैं उनमें से कुछ दौड़ सकते हैं या फिर खुद खाना खा सकते हैं. कंपनी का कहना है कि ये जिस तरह की रेयर बीमारी है उसमें ये दवा किसी चमत्कार से कम नहीं है. कंपनी के मुताबिक दवा की एक खुराक से ही बीमार बच्चों पर सकारात्मक असर पड़ेगा.


पहले से भी दवा मौजूद

Novartis अकेली ऐसी कंपनी नहीं है जिसने इस बीमारी की दवा बनाई है. Biogen ने भी ऐसी ही दवा बनाई है लेकिन उसकी दवा की कई खुराक लेनी पड़ती है. पहले साल में इलाज का खर्च साढ़े सात लाख डॉलर आता है. इसके बाद हर साल पौने चार लाख डॉलर खर्च करने पड़ते हैं. दवा कंपनी Roche भी ऐसी ही दवा बना रही है. हालांकि इसकी कीमत अभी तय नहीं है.  


SHARE WITH LOVE
  • 11
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    11
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.