22,00,00,00,000 – भारत के टॉप 1% लोगों ने 2018 में हर दिन इतने रुपए कमाए

SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारत में रईसों की कैटगरी के टॉप एक फीसद लोग. पता है, इन्होंने 2018 में कितना पैसा कमाया?

2,200 करोड़ रुपया. नहीं. ये पूरे साल की कमाई नहीं है उनकी. एक दिन की कमाई है.

अगर गूगल न हो, तो मुझे ये रकम समझने में टाइम लग जाए.

ऑक्सफैम के एक शोध के मुताबिक, भारत के पैसे वालों में टॉप के एक पर्सेंट लोगों ने पिछले साल हर दिन 2,200 करोड़ रुपया कमाया है. साल शुरू होने से खत्म होने के बीच ये लोग 39 फीसद और अमीर हो गए.

अब गरीबों की बात. भारत के सबसे गरीब 10 फीसद लोग. यानी लगभग 13.6 करोड़ की आबादी. ये लोग पिछले 15 बरस की तरह इस बरस भी कर्ज़ में रहे.

दुनिया के सबसे अमीर लोगों की बात करें, तो उन्होंने 2018 में हर दिन कमाया 17,863 करोड़ रुपया. बाकी दुनिया के जो गरीब हैं, उनकी दौलत 11 पर्सेंट और घट गई.

मतलब दुनिया के जो सबसे अमीर लोग हैं, वो दिनोदिन बेपनाह अमीर होते जा रहे हैं. और जो गरीब हैं, वो गरीबी में और धंसते जा रहे हैं. ऑक्सफैम इंटरनैशनल की ऐक्जिक्यूटिव डायरेक्टर हैं विनी बेनयिमा ने हिंदुस्तान में अमीरों और गरीबों के बीच बढ़ते हिमालय से अंतर पर कहा-

अगर भारत के टॉप एक पर्सेंट लोगों और बाकी के हिंदुस्तान के बीच ये अश्लील असमानता बढ़ती जाती है, तो देश का सामाजिक और लोकतांत्रिक ढांचा पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा.

ऑक्सफैम के मुताबिक-

– दौलत के कुछ लोगों के हाथों में बंद होने का ट्रेंड और बढ़ रहा है.
– दुनिया की 380 करोड़ आबादी के पास कुल मिलाकर जितनी दौलत है, वो बराबर है 26 लोगों की दौलत के.
– 2018 में ऐमजॉन के फाउंडर जेफ बेज़ोस की दौलत में कुल बढ़ोतरी हुई 80,09,68,00,00,00 रुपये की.
– जेफ बेज़ोस की 2018 में हुई इस कमाई का एक फीसद हिस्सा इथोपिया के पूरे हेल्थ बजट के बराबर है. इथोपिया की कुल आबादी है साढ़े 11 करोड़.
– भारत की कुल दौलत का 77.4 पर्सेंट देश के सबसे अमीर 10 फीसद लोगों के पास है. इनमें से भी जो टॉप के एक पर्सेंट लोग हैं, उनके पास 51.53 प्रतिशत नैशनल वेल्थ है.
– देश के 60 पर्सेंट लोग, जो कि सबसे गरीब हैं, उनके हिस्से में मुल्क की कुल संपत्ति का महज 4.8 प्रतिशत है.
– देश के टॉप नौ खरबपतियों की दौलत बराबर है 50 फीसद आबादी की दौलत के.
– अगर भारत के सबसे अमीर एक पर्सेंट लोग बस 0.5 फीसद अतिरिक्त टैक्स दें, तो सरकार स्वास्थ्य सेवाओं पर जितना ख़र्च करती है उसमें 50 प्रतिशत का इज़ाफा हो सकता है.
– केंद्र और राज्य सरकारों ने मेडिकल, पब्लिक हेल्थ, सफाई और पानी की सप्लाई पर कुल मिलाकर जितना ख़र्च किया, वो हिंदुस्तान के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी की दौलत से 2,08,166 करोड़ रुपये कम है.


SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published.