हैरतअंगेज़: धरती पर मौजूद ये ऐसी जगह है जहां कोई जीवन मुमकिन नहीं, वैज्ञानिकों के भी उड़े होश

SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इस जगह को देखकर आप रोमांचित हो उठेंगे. चारों तरफ़ बेहद ख़ूबसूरत नज़ारे दिखेंगे, लेकिन सन्नाटे और वीराने के अलावा यहां कुछ नहीं है.

लोगों को लगता है कि पृथ्वी की सतह के हर हिस्से पर कोई ना कोई जीव रहता है. यानी, जहां-जहां ज़मीन है वहां-वहां जीवन है. समंदर के नीचे जीवन है. पृथ्वी का हर हिस्सा जीवन से भरपूर है, लेकिन इथियोपिया के डलोल ज्वालामुखी के इर्द-गिर्द एक ऐसे इलाक़े का पता चला है जहां जीवन का दूर-दूर तक कोई संकेत नज़र नहीं आता. वैज्ञानिकों ने उत्तरी इथियोपिया में आग की भट्ठी की मानिंद जलते इस इलाक़े को पर्यावरण के मामले में पृथ्वी की सबसे बदतर जगहों में एक माना है. हालांकि तस्वीरें देखकर आपका दिल मचल उठेगा. लोग इस जगह को देखने के लिए दूर-दूर से आते हैं क्योंकि यहां का लैंडस्केप बिल्कुल अलहदा है. लेकिन, पूरी तरह रंगों से भरे इस जीवन-विहीन इलाक़े के बारे में बारे में आप पढ़ेंगे तो आपकी हैरानी और बढ़ जाएगी.

हैरतअंगेज़: धरती पर मौजूद ये ऐसी जगह है जहां कोई जीवन मुमकिन नहीं, वैज्ञानिकों के भी उड़े होश

डलोल की एसिडिक झील के किनारे बैठा एक व्यक्ति

ये पृथ्वी की सबसे गर्म जगह है. यहां की झीलों में पानी के साथ-साथ एसिड तैरता है. फ्रेंच नेशनल सेंटर फॉर साइंटिफिक रिसर्च के ताज़ा शोध में ये दावा किया गया है कि ये इलाक़ा हाइड्रोथर्मल पदार्थों से भरा पड़ा है. देखने में ऐसा लगता है जैसे ये जगह पृथ्वी की नहीं बल्कि किसी दूसरे ग्रह की हो. पृथ्वी पर बेहद प्रतिकूल मौसम में भी करोड़ों सालों के दरम्यान जीवन पनप ही गया, लेकिन डलोल के इर्द-गिर्द अब तक ज़िंदगी का कोई संकेत नहीं मिला है. 


वैज्ञानिकों के मुताबिक़ पृथ्वी के बेहद गर्म, बेहद नमकीन और बेहद एसिडिक जगहों पर भी जीवन पनपा है, लेकिन क्या ऐसा मुमकिन है कि किसी एक ही जगह पर मौसम के ये तीनों प्रतिकूल संकेत मौजूद हों और वहां जीवन उग आए? शोध के निदेशक प्योरिफिकोन लोपेज़-गार्शिया के मुताबिक़ डलोल का ये इलाक़ा ऐसे ही दुर्लभ इलाक़ों में है जो भट्ठी की तरह गर्म है, बेहद नमकीन है और बेहद एसिडिक है. डलोल में रंगीन पानी से बनी झीलों ने अब तक वैज्ञानिकों को निराश ही किया है. 

हैरतअंगेज़: धरती पर मौजूद ये ऐसी जगह है जहां कोई जीवन मुमकिन नहीं, वैज्ञानिकों के भी उड़े होश

वैज्ञानिकों ने इन झीलों के पानी के नमूनों की कई दफ़ा जांच की है. इनमें से कुछ नमूनों में तीनों गुण मिले, लेकिन कुछ नमूनों में पता चला कि वो गर्म और नमकीन तो था, लेकिन बहुत ज़्यादा अम्लीय (एसिडिक) या क्षारीय (बेसिक) नहीं था. इसके बाद वैज्ञानिकों ने उसमें मौजूद सभी जेनेटिक पदार्थों की जांच कर ये पता लगाने की कोशिश की क्या उसमें किसी भी जीव की मौजूदगी है?


नतीजे चौंकाने वाले आए. कुछ सैंपल में पता चला कि पानी सोडियम क्लोराइड से भरा हुआ है. ऐसे में कुछ बेहद सूक्ष्म जीव मौजूद हो सकते हैं. हालांकि अब तक किसी जीव की मौजूदगी का कोई ठोस सबूत हासिल नहीं हो पाया है. माना जाता है कि मैग्नीसियम-बेस्ड नकमीन पानी में जीवन की सबसे कम संभावना होती है क्योंकि मैग्नीशियम कोशिकाओं के मेम्ब्रेन को तोड़ देता है. डलोल के पास जमा किए गए सैंप्लस में मैग्नीशियम सॉल्ट के भी नमूने मिले जहां किसी भी जीव का कोई भी डीएनए नहीं मिल पाया. 

हैरतअंगेज़: धरती पर मौजूद ये ऐसी जगह है जहां कोई जीवन मुमकिन नहीं, वैज्ञानिकों के भी उड़े होश

हालांकि यहीं मौजूद एक दूसरी झील में शोधकर्ताओं को माइक्रोब्स के संकेत मिले. लोपेज़-गार्शिया के मुताबिक़, “आर्चिया की मौजूदगी इतनी कम थी कि हमारा दिमाग झन्ना गया.” दिलचस्प ये है कि इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से जब जीवन-रहित झीलों के सैंपल को देखा गया तो उसमें बायोमोर्फ्स की मौजूदगी मिली, लेकिन लोपेज़-गार्शिया कहते हैं कि ये मिनरल प्रेसिपिटेट्स भी हो सकते हैं जिसे देखकर छोटी कोशिकाओं का भ्रम होता है. वे कहते हैं, “अगर आप मंगल या किसी जीवाश्म की मौजूदगी वाली जगहों पर जाएंगे और आपको बेहद सूक्ष्म गोलाकार चीज़ देखने को मिलती है तो आपको लगेगा कि माइक्रोफॉसिल मिल गया, लेकिन हो सकता है कि वो बिल्कुल दूसरी चीज़ हो.” वैज्ञानिकों के कई समूह अब इस गुत्थी को सुलझाने में जुट गए हैं. देखते हैं कि कब तक इस रहस्य से परदा उठ पाता है.


SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •