कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रॉन: बोरिस जॉनसन

SHARE WITH LOVE


Image Source : AP
कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रॉन: बोरिस जॉनसन

Highlights

  • ब्रिटेन में ओमिक्रॉन का कम्युनिटी स्प्रेड होने लगा
  • ब्रिटेन में प्रस्थान-पूर्व कोविड जांच का नियम लागू
  • ओमिक्रॉन को लेकर कोई भी निष्कर्ष निकालना बेहद जल्दबाजी होगी: बोरिस जॉनसन

लंदन: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों से कहा कि शुरुआती संकेतों से पता चलता है कि कोरोना वायरस का ओमिक्रॉन स्वरूप, डेल्टा स्वरूप से अधिक संक्रामक है। वर्तमान में ब्रिटेन में डेल्टा स्वरूप के संक्रमण के मामले अधिक संख्या में सामने आ रहे हैं। मंत्रिमंडल की बैठक के बारे में जानकारी देते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि जॉनसन ने दोहराया कि फिलहाल कोविड-19 के नए स्वरूप के व्यापक प्रभाव के बारे में कोई भी निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी। 

जॉनसन की ये टिप्पणी ऐसे समय में आयी है, जब मंगलवार को ब्रिटेन में ओमिक्रॉन से संक्रमण के 101 नए मामले सामने आए, जिसके साथ इन मामलों की संख्या बढ़कर 437 हो गई है। प्रवक्ता ने कहा, ” प्रधानमंत्री ने कहा कि ओमीक्रोन को लेकर कोई भी निष्कर्ष निकालना बेहद जल्दबाजी होगी। हालांकि, शुरुआती संकेतों से पता चलता है कि डेल्टा की तुलना में ओमीक्रोन अधिक संक्रामक है।”

ओमिक्रॉन का कम्युनिटी स्प्रेड होने लगा

ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन का कम्युनिटी स्प्रेड होने लगा है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जावेद ने इसकी पुष्टि की है। साजिद जावेद ने संसद में कहा कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन का देश के क्षेत्रों में सामुदायिक स्तर पर प्रसार शुरू (कम्युनिटी स्प्रेड) हो गया है। उन्होंने कहा कि जो लोग संक्रमित मिले हैं उनमें ऐसे भी लोग हैं, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय यात्रा नहीं है, जिसका मतलब है कि यह वायरस अब सामुदायिक स्तर पर फैलने लगा है।

ब्रिटेन में प्रस्थान-पूर्व कोविड जांच का नियम लागू

ब्रिटेन में ओमिक्रॉन के प्रसार की रफ्तार थामने के लिए ब्रिटेन ने मंगलवार से नये नियम लागू किये हैं, जिसके तहत भारत समेत विदेशों से यहां आने वाले किसी भी यात्री को अपनी यात्रा से 48 घंटे पहले कोविड-19 की जांच करानी होगी। ओमिक्रॉन के संक्रमण के किसी भी संदिग्ध को पहले से 10 दिनों के लिए खुद से पृथकवास में रहने की आवश्यकता होती है। इनमें वे लोग भी शामिल हैं, जिन्हें कोविड-रोधी टीके की पूरी खुराक दी जा चुकी है। 

इतना ही नहीं, नए नियमों में कहा गया कि यात्राओं के संबंध में ब्रिटेन की ‘लाल सूची’ के देशों– अंगोला, बोत्सवानिया, एस्वातिनी, लेसोथो, मलावी, मोजाम्बिक, नामिबिया, नाइजीरिया, दक्षिण अफ्रीका, जाम्बिया, जिम्बाब्वे से लौट रहे ब्रिटिश और आयरिश नागरिकों को सरकारी मान्यता प्राप्त होटल में पृथकवास में रखने की आवश्यकता है।





Source link


SHARE WITH LOVE