भारत से विद्यार्थी और टीचर्स जा सकते हैं सऊदी अरब, ट्रैवल बैन लिस्ट में शामिल राष्ट्रों को बड़ी राहत

SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  


रियाद
सऊदी अरब के आंतरिक मंत्रालय ने मंगलवार को यात्रा प्रतिबंधों का सामना करने वाले राष्ट्रों से शिक्षा स्टाफ के सीधे प्रवेश की घोषणा कर दी है. इन राष्ट्रों में हिंदुस्तान भी शामिल है जहां के एजुकेशन कर्मचारियों को अब सऊदी अरब में सीधे प्रवेश की अनुमति दी जाएगी. सऊदी प्रेस एजेंसी ने इसकी जानकारी दी और बताया कि अब कुछ विशेष श्रेणी के नागरिकों को 14 दिन किसी तीसरे देश में नहीं बिताने होंगे.

सरकार के नियमों में जिन श्रेणियों को प्रवेश की अनुमति दी गई है, उनमें यूनिवर्सिटी, कॉलेज और इंस्टीट्यूट में कार्यरत फैकल्टी मेम्बर्स सबसे प्रमुख हैं. इसके अतिरिक्त सामान्य एजुकेशन से जुड़े टीचर्स, टेक्निकल एंड वोकेश्नल ट्रेनिंग कॉर्पोरेशन (TVTC) और ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के ट्रेनिंग स्टाफ और स्कॉलरशिप विद्यार्थियों को भी प्रवेश की अनुमति दी जाएगी. इन लोगों को किसी देश से उड़ान भरने और सऊदी अरब में प्रवेश के बीच किसी तीसरे देश में 14 दिन बिताना जरूरी नहीं होगा.

क्वारंटीन में लगवानी होगी वैक्सीनमंत्रालय के हवाले से रिपोर्ट में बोला गया है कि जिन लोगों ने सऊदी अरब में वैक्सीन की एक भी खुराक प्राप्त नहीं की है उन्हें देश में प्रवेश के बाद इंस्टीट्यूश्नल क्वारंटीन में रहना होगा. क्वारंटीन अवधि के दौरान उन्हें वैक्सीन लगवाना जरूरी होगा. जिस किसी ने भी वैक्सीन की एक डोज प्राप्त कर ली है उसे इंस्टीट्यूश्नल क्वारंटीन से छूट मिलेगी. मंत्रालय ने सभी से सुरक्षा मानकों और प्रोटोकॉल्स का पालन करने और स्वास्थ्य सुरक्षा के प्रति ढिलाई न बरतने के लिए बोला है.

ट्रैवल बैन लिस्ट में शामिल देशफिलहाल सऊदी अरब की ओर से ट्रैवल बैन का सामना करने वाले राष्ट्रों में भारत, पाकिस्तान, इंडोनेशिया, मिस्र, तुर्की, ब्राजील, इथियोपिया, वियतनाम, अफगानिस्तान और लेबनान शामिल हैं. 24 अगस्त को सऊदी अरब ने ट्रैवल बैन लिस्ट में शामिल राष्ट्रों से वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके प्रवासियों के सीधे प्रवेश की घोषणा की थी. यह नियम केवल उन प्रवासियों के लिए है जिनके पास एक वैध रेजीडेंसी परमिट है. साथ ही सऊदी अरब से Covid-19 के टीके की दो खुराक लेने के बाद किंगडम को एग्जिट और रीएंट्री वीजा के साथ छोड़ दिया था.



Source link


SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •