माली में आम लोगों को ले जा रहे ट्रक पर ‘जिहादियों’ का हमला, 31 की मौत

SHARE WITH LOVE

Image Source : AP REPRESENTATIONAL
मध्य माली में अज्ञात बंदूकधारियों के हमले में ट्रक पर सवार 31 लोगों की मौत हो गई।

Highlights

  • हमले में जान गंवाने वालों में ज्यादातर महिलाएं हैं जो बाजार में काम पर जा रही थीं।
  • मेयर हुसैनी साइ ने कहा, ‘गोलीबारी के चलते ट्रक में आग लग गई और 31 लोगों की मौत हो गई।
  • अगस्त में भी उत्तरी माली के कई गांवों में बंदूकधारियों ने हमले करके 40 लोगों की हत्या कर दी थी।

बामाको: मध्य माली में अज्ञात बंदूकधारियों ने आम लोगों को ले जा रहे एक ट्रक पर हमला कर दिया, जिसमें कम से कम 31 लोगों की मौत हो गई। आशंका जताई जा रही है कि शनिवार को हुए इस हमले को जिहादी आतंकियों ने अंजाम दिया है। बांदियाजारा के मेयर हुसैनी साइ ने कहा कि हमला शुक्रवार को कस्बे से लगभग 10 किलोमीटर दूर हुआ, जब ट्रक लगभग 50 यात्रियों को ले जा रहा था। हमले में जान गंवाने वालों में ज्यादातर महिलाएं हैं जो बाजार में काम पर जा रही थीं।

‘अधिकतर की मौत जलने से हुई’

मेयर हुसैनी साइ ने कहा, ‘गोलीबारी के चलते ट्रक में आग लग गई और 31 लोगों की मौत हो गई। अधिकतर की मौत जलने से हुई। इसके अलावा कई लोग घायल हो गए जबकि दो लापता हैं।’ इससे पहले अगस्त में भी उत्तरी माली के कई गांवों में बंदूकधारियों ने हमले किए थे और कई जिहादी नेताओं की हाल में गिरफ्तारी के प्रतिशोध में कम से कम 40 लोगों की हत्या कर दी थी। यह हिंसा माली, नाइजर और बुर्किना फासो की सीमाओं के निकट हिंसाग्रस्त क्षेत्र में हुई थी जहां इस्लामिक स्टेट समूह से जुड़े चरमपंथी सक्रिय हैं।

आतंकियों ने खुद को जिहादी बताया था

स्थानीय अधिकारी ओउमर सिस्से ने बताया था कि हमलावर औटागौना और कराउ समुदायों के बीच पहुंचे और खुद को जिहादी बताया। उन्होंने बताया, ‘अधिकांश पीड़ित अपने घरों के सामने थे अन्य लोग मस्जिद जा रहे थे।’ यह हमला माली की सेना द्वारा 2 जिहादी नेताओं को गिरफ्तार करने के एक हफ्ते बाद हुआ है, जिनकी औटागौना और कराउ के निवासियों ने निंदा की थी। चरमपंथी वर्षों से इस क्षेत्र में खतरा बने हुए हैं। जिहादी विद्रोहियों ने पहली बार 2012 में उत्तरी माली के शहरों पर कब्जा कर लिया था, हालांकि उन्हें जल्द ही शहरों से बाहर कर दिया था।

Source link


SHARE WITH LOVE