Air Force Day पर इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने हिंदुस्तान को दी बधाई, कहा- दोस्त को शुभकामनाएं

SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  


तेल अवीव
भारत के पर 4500 किलोमीटर दूर स्थित देश से शुभकामना संदेश आया है. (IDF) ने ट्वीट कर भारतीय वायु सेना और भारतीय थल सेना को शुभकामनाएं दी हैं. आज भारतीय वायु सेना अपना 89वां स्थापना दिवस मना रही है. इस मौका पर गाजियाबाद के हिंडन एयरफोर्स बेस पर भव्य प्रोग्राम का आयोजन भी किया गया.

IDF ने ट्वीट कर दी शुभकामनाएं
इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने ट्विटर हैंडल से लिखा है कि हमारे दोस्तों को भारतीय वायु सेना दिवस की शुभकामनाएं. उन्होंने अपने ट्वीट में भारतीय वायु सेना और भारतीय थल सेना के ट्विटर एकाउंट को टैग भी किया है. आईडीएफ ने आगे लिखा कि हम आनें वाले इंटरनेशनल ब्लू फ्लैग अभ्यास में एक साथ ट्रेनिंग के लिए तत्पर हैं.

कारगिल युद्ध में इजरायल ने की थी हिंदुस्तान की मदद
कारगिल की लड़ाई में हिंदुस्तान को सबसे अधिक सहायता किसी देश से मिली थी तो वह इजरायल था. जंग के दौरान इजरायल ने हिंदुस्तान को मोर्टार और गोला-बारूद देकर सहायता की थी. इजरायल उन चुनिंदा राष्ट्रों में से एक था जिसने कारगिल युद्ध के दौरान हिंदुस्तान की प्रत्यक्ष रूप से सहायता की थी. कारगिल युद्ध के दौरान इजरायल हिंदुस्तान के लिए संकट मोचक बनकर सहायता की थी.

लेजर गाइडेड मिसाइलों समेत कई हथियार दिए
उसने भारतीय वायु सेना के मिराज 2000 लड़ाकू विमानों के लिए लेजर गाइडेड मिसाइलें प्रदान की थी. उसने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के दबावों के बावजूद इजरायल ने कारगिल में घुसपैठ के पहले ऑर्डर दिए गए हथियारों की शिपमेंट को जल्द से जल्द हिंदुस्तान को सौंपा था. इसमें इजरायल के हेरोन अनमैंड एरियल वीकल (यूएवी) की डिलीवरी भी शामिल है.

8 अक्टूबर को क्यों मनाया जाता है वायु सेना दिवस?
आज ही के दिन वर्ष 1932 में भारतीय वायु सेना की स्थापना की गई थी. आजादी से पहले वायुसेना को रॉयल भारतीय एयरफोर्स बोला जाता था. 1 अप्रैल 1933 को वायुसेना के पहले दस्ते का गठन हुआ. इसमें 6 आरएएफ ट्रेंड अधिकारी और 19 हवाई सिपाही शामिल थे. भारतीय एयरफोर्स ने सेकंड वर्ल्‍ड वॉर में अहम किरदार निभाई थी. आजादी के बाद इसमें से ‘रॉयल’ शब्द हटा लिया गया.

पहले आर्मी के कंट्रोल में था एयरफोर्स
आजादी से पहले एयरफोर्स पर आर्मी का कंट्रोल होता था. एयरफोर्स को आर्मी से अलग करने का क्रेडिट भारतीय एयरफोर्स के पहले कमांडर इन चीफ, एयर मार्शल सर थॉमस डब्ल्यू एल्महर्स्ट को जाता है. वह भारतीय वायुसेना के पहले चीफ, एयर मार्शल थे. वह 15 अगस्त 1947 से 22 फरवरी 1950 तक इस पद पर थे.

गीता से लिया गया वायु सेना का आदर्श वाक्य
भारतीय वायु सेना का आदर्श वाक्य ‘नभ: स्पृशं दीप्तम’ है. यह वाक्य गीता के 11वें अध्याय से लिया गया है. यह महाभारत के युद्ध के दौरान कुरुक्षेत्र की युद्धभूमि में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को दिए गए उपदेश का एक अंश है.

भारतीय वायु सेना का ध्वज
वायु सेना ध्वज, वायुसेना निशान से अलग नीले रंग का है जिसके पहले एक चौथाई भाग में राष्‍ट्रीय झण्डा बना हुआ है. मध्य भाग में राष्‍ट्रीय झण्डा के तीनों रंगों (केसरिया, श्वेत और हरा) से बना एक वृत्त है. यह झण्डा 1951 में अपनाया गया.

दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायु सेना हिंदुस्तान के पास
भारतीय वायु सेना के पास दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायु सेना होने का रुतबा है. वायु सेना में लगभग 1.40 लाख कर्मचारी हैं. करीब इतनी ही संख्‍या रिजर्व कर्मचारियों की भी है. चीफ ऑफ एयर स्‍टाफ (CAS) इसमें कमांडर होते हैं और राष्‍ट्रपति कमांडर-इन-चीफ. भारतीय वायु सेना के पास 1,850 से ज्‍यादा एयरक्राफ्ट्स हैं. इनमें से करीब 900 लड़ाकू विमान हैं. इसमें राफेल, सुखोई एसयू-30MKI, एससीए तेजस, मिग-29, मिग-21 बाइसन, जगुआर, मिराज-2000 जैसे लड़ाकू विमान भी शामिल हैं.



Source link


SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •